Call +91 9306096828

ज्योतिष के नज़रिये से देखे तो विवाह बंधन योग कई तरह से बनता है। जैसे की आप जन्म से ही कुछ ऐसे ग्रह लेकर पैदा हुए हो, जिससे आपको जीवन में सब कुछ मिल सकता हो परन्तु विवाह का सुख न मिले। ऐसे भी हो सकता है कि कोई व्यक्ति शादी के योग्य ही न हो या शादी करने की इच्छा ही न हो। या हो सकता है की शादी की नौबत ही न आए। कई कारण हो सकते है। जन्म कुंडली में इसके लक्षण साफ़ दिखाई देते है। 

विवाह बंधन योग कैसे बनता है

कुंडली का 7वा घर पहली शादी का स्थान माना जाता है। शादी के स्थान के एक तरफ 6वा घर होता है और दूसरी तरफ 8वा घर होता है। जब 6वा और 8वा घर पाप ग्रहों द्वारा दूषित हों, तब शादी की इच्छा तो होती है और प्रयास भी होते है परन्तु शादी नहीं होती। अगर 6वा ,7वा  और 8वा, ये तीनों घर पाप ग्रहों द्वारा दूषित है, तब शादी बंधन योग बनता है। इसमें शादी नहीं हो सकती। शादी न होना ही, इसका सबसे बड़ा परिणाम  है। 

मांगलिक और शादी बंधन का योग

कुछ प्रकार के मांगलिक योग भी ऐसे होते है, जैसे कोई व्यक्ति सूर्य, चंद्र और  लग्न से मांगलिक है और प्रबल मांगलिक है, तो हो सकता है की शादी न हो। ये शादी के बंधन के कुछ योग है, जो हम ज्योतिष की दृष्टि से देख सकते है।  ऐसे कई प्रकार के योग होते है।  यदि उनके बारे में विस्तार में बताया जाए, तो पूरी किताब लिखी जा सकती है। 

किसी की शादी का योग बाँध देना या विवाह बांध देना इसके क्या मायने हैं?

तंत्र प्रयोग द्वारा किसी का विवाह बांध देना आज बहुत सामान्य हो चुका है। अनेक केस ऐसे मिलते हैं जहां जन्म कुंडली मे ऐसा कोई विशेष योग नहीं था फिर भी शादी नहीं हुई। पटियाला (पंजाब) से एक सज्जन अपनी पुत्री कि कुंडली लेकर हमारे पास आए तो कोई विशेष योग नहीं मिला जो सिद्ध कर सके कि चालीस की उम्र मे भी इस कन्या का विवाह नहीं हो सका है। फिर केतू का प्रभाव सातवें घर पर देखा तो महसूस हुआ कि कुछ तो गड़बड़ है। हमने खासतौर पर पूछा तो पता चला कि पच्चीस साल कि उम्र मे इस कन्या की एक चप्पल और कुछ कपड़े गायब हो गए थे जो काफी ढूंढने पर भी नहीं मिले। इस तरह की चीजें गुम होने का अर्थ तंत्र प्रयोग हो सकता है। अनेक उदाहरण ऐसे हैं जिनका उल्लेख नहीं किया जा सकता।

GuruVedic Free Predictions

 

Verification

यह आपके शरीर के और आपकी आत्मा के बारे में है। इसलिए यहाँ जो कुछ हम बता रहे है, वह समान्य दृष्टि से नज़र नहीं आता। केवल इसके लक्षण ही दिखाई देते है।

कुछ लोग दुनिया में खास होते है। उन्हें इस दुनिया के अलावा दूसरी दुनिया की चीजे भी दिखाई देती है। उन्हें असामान्य पारलौकिक गतिविधियाँ भी दिखाई देती है। यदि इनको महसूस होता है तो जाहिर सी बात है, कि पारलौकिक गतिविधियाँ उनको प्रभावित भी कर सकती है। इनमे से कुछ लोग ऐसे भी होते है, जो दिखने मे या आचार विहार मे खास होते है। यानि जिनकी पहचान दूर से ही हो जाती है या जो भीड़ का हिस्सा नहीं है। जो थोड़े अलग होते है। जिनके शरीर में अलग सुगंध होती है। कुछ लोग ऐसे होते है, जो बहुत खूबसूरत होते है। या कुछ लोग बहुत संवेदनशील होते है। 

कुछ लोग ऐसे होते है, जिनको नज़र जल्दी लग जाती है। कुछ लोग ऐसे होते है जिन पर तंत्र प्रयोग आसानी से किया जा सकता है। और कुछ लोग ऐसे होते है, जिन पर बहुत मुश्किल से तंत्र प्रयोग होता है। यह सब कुछ आपके ग्रहों पर निर्भर करता है।

कुंडली में बंधन और मोक्ष का योग

किन लोगों पर नकारात्मक ऊर्जा का असर जल्दी होता है?

यदि आपका सूर्य कमजोर है, तो आप आसानी से किसी का निशाना बन सकते है। यदि आपकी आत्मा कमजोर है तो आपके शरीर पर  भूत-प्रेत  का असर हो सकता है।  यह चाहे किसी भी कारण से हुआ हो।  चाहे किसी से ने तांत्रिक कर्म करके आपको नुकसान पहुंचाने की कोशिश की हो। या फिर किसी और वजह से। 

परन्तु इससे नकारात्मक ऊर्जा आपके शरीर के साथ चिपक जाती है। इसी नकारात्मक ऊर्जा की वजह से नकारात्मक विचार आते है। किसी भी विचार की शुरआत नकारात्मक तरीके से होती है। यह सब इतनी ख़ामोशी से होता है कि इसका पता नहीं चलता। जो नकारात्मक ऊर्जा आपके शरीर को पकड़े हुए है, वो आपको कभी छोड़ना नहीं चाहेगी। आप जो कुछ भी खाते है या जिस चीज से आपको प्रेम है उसके अंदर आप पूरा सुख नहीं ले पाते। क्योकि यह नकारात्मक ऊर्जा भी उसका आनंद ले रही है। जब आप इस चीज से पीछा छुड़ाने की कोशिश करेंगे, तो यह नकारात्मक ऊर्जा उस हर चीज को आपसे दूर कर देगी जिसे आप पाना चाहते है। 

जैसे, आपके रिश्ते की बात चल रही है या रिश्ता पक्का हो गया है और सिर्फ औपचारिकता रह गयी है।  तभी इस नकारात्मक ऊर्जा को आभास होता है कि आप एक से दो होने वाले है। तो वह आपके शरीर को बाँटना नहीं चाहेगी। नकारात्मक ऊर्जा ने आपके शरीर पर आधिपत्य जमा लिया है। नकारात्मक ऊर्जा  ऐसी स्थितियाँ उत्पन्न करती है, जिससे आपकी शादी न हो। इसको बोलते है विवाह बंधन। आप कितनी भी कोशिश कर लीजिये, आपका रिश्ता पक्का नहीं हो सकता। जब तक आप इसका उपाय नहीं करते, आपकी शादी  नहीं हो सकती। 

कैसे दूर करें विवाह बंधन योग को 

इसके कुछ तरीके है जो किसी योग्य गुरु के निर्देशन में संभव है। इसमें किसी भी प्रकार का  जोखिम नहीं लिया जा सकता। जो लोग ऐसा महसूस करते है या आभास होता है, कि कुछ अजीब है। वो हमें अपनी समस्या लिखकर नीचे दिये गए Form द्वारा भेज सकते हैं

GuruVedic Free Predictions

 

Verification

कब मिलेगी जीवन संगिनी


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *