Call +91 9306096828

इस पोस्ट में हम राहु का मंत्र आपको सरल भाषा में समझा रहे हैं और साथ साथ इसका उच्चारण कैसे करना है और कितना जाप करना है ये सब हम आपको बताने जा रहे हैं।

सबसे पहले हम आपको मंत्र बता रहे हैं कि राहु का ऐसा कौन सा मंत्र है जिससे कुप्रभाव से शांति मिल सकती है।

ॐ भ्रां भ्रीं भ्रों सः राहवे नमः

इस मंत्र को शुरू करने से पहले शांत होकर कहीं बैठ जाएँ। अपना ध्यान अपने माथे के बीचों बीच लगाने का प्रयास करें। मौन रहें और विचारों पर ध्यान न दें। केवल सोचना बंद कर दें। अब इस मंत्र को मन में पढ़ें। हर शब्द पर ध्यान देने की आवश्यकता नहीं है। बस मंत्र की ध्वनि जो आपके भीतर गूँज रही है उस पर ध्यान दें। दस मिनट या बीस मिनट जितना हो सके एक निश्चित अवधि तक जाप करें।

Rahu Mantra in Video

क्या राहु मंत्र चलते फिरते भी किया सकता है?

चलते फिरते उठते बैठते इस मंत्र को सुना जा सकता है। सुनने मात्र से आप इस मंत्र से लाभ प्राप्त कर सकते हैं। मानसिक जाप की तरह इसे आप सुन सकते हैं।

मंत्र की संख्या पर ध्यान न दें। केवल समय देख कर दस मिनट या अधिक रोज इसे सुनें। हो सके तो मंत्र को सुनने के लिए दिन या रात में एक निश्चित समय पर अलार्म लगा लें और तभी इस मंत्र का प्रयोग करें। इस तरह से यह मंत्र कुछ दिनों के नियम से ही प्रभावी हो जायेगा।


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *