Call +91 9306096828

यदि आप वीडियो को ध्यान से देखें तो इसमें एक प्लेन स्क्रीन पर बृहस्पति का मंत्र लिखा गया है। मंत्र अति साधारण लगता है परंतु इसके फायदे जानकर आप दंग रह जाएंगे। इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि बृहस्पति के मंत्र का प्रयोग कैसे किया जाता है उच्चारण की विधि क्या है मंत्र को शुरू कैसे करें और मंत्र के लाभ क्या हैं कि से यह मंत्र पढ़ना चाहिए और किसे नहीं।

बृहस्पति का मंत्र कौन पड़े

बृहस्पति के बीज मंत्र को पढ़ने के लिए वैसे तो कोई नियम नहीं है आप कभी भी इसे शुरू कर सकते हैं कोई भी इसे पढ़ सकता है परंतु यदि आपकी राशि धनु या मीन है तो आपके लिए यह मंत्र विशेष लाभप्रद है। मेष कर्क राशि वालों के लिए भी यह मंत्र बहुत अच्छा है। वृश्चिक और कुंभ राशि वालों के लिए भी इस मंत्र को चमत्कारी समझा जाता है। ज्योतिषी ने यदि आपको कहा है कि बृहस्पति का मंत्र पढ़ो तो आपके लिए यह मंत्र जीवन को बदलने वाला है। यदि केवल बृहस्पति मंत्र को पढ़ा जाए और किसी भी मंत्र की आवश्यकता नहीं रहेगी। बृहस्पति का मंत्र उन लोगों को नहीं पढ़ना चाहिए जिनका कार्य या व्यवसाय नशा मांस मछली आदि से संबंधित है। बाकी सभी लोग इस मंत्र को पढ़ सकते हैं।

बृहस्पति मंत्र का उच्चारण कैसे करें

आपको किसी की भी बातों में आने की आवश्यकता नहीं है। स्क्रीन पर जैसे यह मंत्र दिया गया है इसी प्रकार से इसे पढ़ना है या सुनना है यदि हो सके तो 10 या 15 मिनट तक प्रतिदिन एकाग्र चित्त होकर इस मंत्र को सुनें। किसी विशेष अनुष्ठान आदि की आवश्यकता नहीं है चलते-फिरते उठते बैठते जागते सोते जब कभी आप को मौका मिले आप इस मंत्र को सुने और स्वयं अपनी आंखों से चमत्कार देखें।

यदि आप इस मंत्र को विधि विधान के साथ प्रयोग करना चाहते हैं तो 1 आसन पर बैठ जाएं और दीपक जला लें। दीपक की लौ पर अपना ध्यान केंद्रित करें और आंखें बंद कर लें कुछ देर तक मोहन रहे और कुछ भी सोचना बंद कर दें या इसकी कोशिश करें। जब आपको लगे आपका मन शांत है तब इस मंत्र का श्रवण आरंभ करें या मन ही मन इस मंत्र को पढ़ते हुए तीन माला या अधिक पांच माला का जाप करें। ऐसा आपको 43 दिन तक करना है इसके पश्चात गुरु को या गुरु समान किसी व्यक्ति को कुछ दान दक्षिणा देकर आशीर्वाद ले। यही इस मंत्र की पूर्णता है।

बृहस्पति मंत्र के लाभ

यदि आप नियमित रूप से बृहस्पति के मंत्र का प्रयोग करते हैं तो आपके जीवन में कुछ सकारात्मक परिवर्तन होने प्रारंभ हो जाएंगे। जिन लोगों की किस्मत साथ नहीं देती है हमेशा किस्मत की वजह से जो लोग जीवन के किन्ही कार्यों में फेल हो जाते हैं उन्हें यह मंत्र अवश्य पढ़ना चाहिए क्योंकि बृहस्पति भाग्य का कारक ग्रह है।

भाग्य के सहारे हैं जो लोग रहते हैं उन्हें इस मंत्र का प्रयोग करना चाहिए। जिन लोगों की कोई संतान नहीं है या जिनका कोई पुत्र नहीं है उनके लिए यह मंत्र रामबाण है। जिन लोगों कोई योग्य गुरु की आवश्यकता है या फिर मार्गदर्शन करने के लिए जिनके जीवन में कोई नहीं है उन्हें बृहस्पति के मंत्र का आश्रय लेना चाहिए आप देखेंगे कि कोई शक्ति है जो आपको निर्देश देती है।

जिन लोगों के पास धन की तंगी रहती है बरकत नहीं होती कितना भी पैसा आ जाए अपने काम नहीं आता या दवाइयों पर खर्च होता है उन्हें बृहस्पति के मंत्र का प्रयोग करना चाहिए। स्त्रियों के लिए यह मंत्र विशेष लाभप्रद है क्योंकि स्त्रियों के लिए बृहस्पति पति के समान है। जो स्त्रियां अपने पति को बहुत प्रेम करती हैं पति और पुत्र दोनों की लंबी आयु के लिए बृहस्पति के मंत्र को प्रयोग करना प्रारंभ कर दें।

बृहस्पति मंत्र के प्रभाव से आपके पति और पुत्र के मार्ग की सभी रुकावटें दूर हो जाएंगी। यदि कोई संकट आने वाला है तो वह भी केवल छूकर निकल जाएगा। इस मंत्र में आस्था रखकर इसे बहुत श्रद्धा के साथ इस्तेमाल करें।


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *