Call +91 9306096828

जिस समय हवन करते हैं आपने देखा होगा कि पंडित जी सबको हवन सामग्री दे देते हैं और कहते हैं कि जैसे ही मैं स्वाहा बोलूं आपने आहुति डाल देनी है तो प्राचीन काल से यह प्रथा चली आ रही है बहुत सारे लोग होंगे हवन कुंड एक है उसमें हवन सामग्री डाली जा रही है आहुति डाल रहे हैं और जाप चल रहा है अब यह समझने की आवश्यकता है कि एक समय अनेक लोग जब प्रार्थना करते हैं तो उसका कुछ अलग प्रभाव होता है और जब एक व्यक्ति अकेला कोई प्रार्थना करता है कोई मंत्र पाठ करता है तो उसका एक सीमित प्रभाव होता है।

थोड़ा और गहराई से समझते हैं एक देवी है जिसका मंत्र गुरु ने अपने शिष्यों को दे दिया अब वह सोच शिष्य गुरुकुल में गुरु के आश्रम में नियम से प्रतिदिन मंत्र का जाप करते हैं। 

आज स्थिति यह है एक जगह पर बहुत लोग इकट्ठा नहीं हो सकते यह ऐसा दौर आ गया है कि जब आप अपने घर पर रहकर पूजा पाठ भजन आदि स्वयं करें। अब मंत्र एक है जो सारे शिष्यों को बराबर दिया गया देवी या देवता एक है तो अनेक भक्तों को भी एक हो जाना चाहिए। 

जब अलग-अलग जगह से एक नाम का जाप एक निश्चित समय पर होगा तो से जो शक्ति प्रकट होती है उसकी केवल कल्पना ही की जा सकती है। जो काम 100 दिन में होना था वह 1 दिन में हो सकता है।