Call +91 9306096828

जन्म कुंडली के तीसरे घर से भाई-बहन आदि का विचार किया जाता है । मित्र रिश्तेदार सब कुछ इसी घर से देखते हैं परंतु क्या आपको पता था । तीसरा घर आपके अंदर छिपी दैवीय शक्तियों का है यही नहीं आपके औरा का है। आपके अंदर ऐसी कोई शक्ति जो निश्चित रूप से केवल आपको पता है यह तीसरे घर से देखा जाता है। जिन लोगों के अंदर कोई खास दैवीय शक्ति प्रतिभा हुनर होता है उसे तीसरे घर से ही देखा जाता है।

हर व्यक्ति की कोई एक शारीरिक खासियत होती है। जैसे कोई निशाना लगाने मे माहिर है तो कोई बचाव करने मे। जैसे क्रिकेट मे एक व्यक्ति बाउल फेंकने मे माहिर होता है और दूसरा बल्लेबाजी मे माहिर होता है। तीसरे घर से यही देखा जाता है कि आपकी प्रतिभा किसमे होगी। आपका हुनर क्या है।

जैसे आपकी प्रतिभा या हुनर को तीसरे घर से देखा जाता है ठीक उसी तरह तीसरे घर से आपकी कमजोरी का भी पता चलता है। एक व्यक्ति जो बहुत अधिक प्रभावशाली है जिसे हराना कठिन है उसकी कोई तो कमजोरी होगी ही। इसी घर से पता चलेगा किस जगह जाकर एक व्यक्ति घुटने टेक देगा। एक व्यक्ति को किस तरह से दबाया जा सकता है कुंडली के तीसरे घर से पता चलेगा।

तीसरे घर मे सूर्य

यदि आपकी कुंडली मे तीसरे घर मे सूर्य है तो आप भाग्यशाली हैं। कोई कितना भी दबंग या बलशाली क्यों न हो आपके दरवाजे पर आकार माथा टेकेगा। एक समय मे आपका दबदबा और हुकूमत से लोग ईर्ष्या तो करेंगे पर आपका कुछ बुरा नहीं कर पाएंगे। जीवन मे एक समय ऐसा आएगा जब आपकी शरण पाकर लोग अपने दरिद्र योग को समाप्त कर पाएंगे और जो लोग आपसे शत्रुता करेंगे वे घोर संकट मे पड़ जाएंगे।

तीसरे घर मे चंद्रमा

तीसरे घर में चंद्रमा हो तो आप भाग्यशाली हैं क्योंकि आपकी मैत्री जिन लोगों के साथ होगी वे या तो बहुत भावुक होंगे या फिर आपकी मैत्री अधिकतर स्त्रियों के साथ रहेगी। स्त्रियों के गहरे राज आपको मालूम होंगे। निश्चित तौर पर आपके जीवन में हर कदम पर आपको मित्र उपलब्ध होगा।

तीसरे घर मे मंगल

आपको अपने काम का माहिर बना देगा। आपकी क्षमता इतनी अधिक होगी कि आप के समकालीन लोग आपसे बहुत पीछे रहेंगे आप जब तरक्की करेंगे तो लोग देखते रह जाएंगे क्योंकि आपके जीवन में देर का कोई स्थान नहीं होगा आपके सभी काम झटपट पूरे होंगे यही मंगल की शक्ति है जो तीसरे घर से प्रस्फुटित होती है ।

तीसरे घर में बुध

यह राजनीति से जोड़ता है आप चाहे सक्रिय राजनीति का हिस्सा ना रहे परंतु राजनीति के माहिर लोग आप के संपर्क में रहेंगे। अपना काम निकालने के लिए आपके पास अपार शक्ति होगी। आपके एक बार फोन कर देने से काम बन जाएगा।

तीसरे घर में बृहस्पति

यदि तीसरे घर में बृहस्पति हो तो ना तो आपके जीवन में रुपए पैसे की कमी रहेगी और ना ही सुख के साधनों की। आपका भाग्य उदय आपके विवाह के पश्चात होगा। आपके जीवन में एक तीसरा मोड़ आएगा जो आपको सर्वाधिक सुख देगा वह है आपके पुत्र का सुख। आपका पुत्र आप से काफी बढ़कर होगा ।

तीसरे घर में शुक्र

केवल यही एक ऐसा ग्रह है जो तीसरे घर में अच्छा नहीं माना जाता। कुछ विद्वानों का मत है कि तीसरे घर का शुक्र गैर स्त्रियों से संबंध बनाता है। यदि आपकी कुंडली में तीसरे घर में शुक्र है तो आपको एक सलाह मैं दूंगा जीवन में कोई मित्र नहीं होता कोई अपना नहीं होता इस बात का एहसास आपको कदम कदम पर होगा इसलिए जो सच्चा मित्र है वह है आपका बचा कर रखा हुआ धन जो मुसीबत में काम आए।

तीसरे घर में शनि

यदि तीसरे घर में शनि है तो इसे कई तरीके से अशुभ समझा जाएगा आप अपने जीवन में स्वयं बहुत तरक्की करेंगे परंतु आपका पुत्र आपके रिश्तेदार भाई बंधु यहां तक कि आपके दोस्त इनकी वजह से आप जीवन भर परेशान रहेंगे। आपको एक बात ध्यान में रखनी चाहिए कि जीवन में अपने आप से बड़ा मित्र कोई नहीं होता इसलिए पहले स्वयं के बारे में सोचें आपकी शक्ति आपका धैर्य है यह एक गहरी बात है इसे आपने समझ लिया तो पूरी जिंदगी का अर्थ समझ में आ जाएगा।

तीसरे घर में राहु

आपके क्रियाकलाप आदतें आपके कार्य आपकी क्षमता इन सब का अंदाजा लगाना बहुत कठिन होगा क्योंकि अधिकतर लोग इसी गलतफहमी में रहेंगे कि आपके पास पता नहीं कितना बल है कितनी शक्ति है इसलिए लोग आप से बैर मोल नहीं लेंगे ।

तीसरे घर में यदि राहु को तो आपकी शक्ति है आपका चुप रहना और चुपचाप काम करते रहना लोगों को आप के विषय में खबर तक नहीं लगेगी और आप अपनी चाल चल जाएंगे ।

तीसरे घर में केतु

आप विश्वास करें या ना करें परंतु आपको जीवन में एक ऐसी दैविक शक्ति प्राप्त होगी जो ना केवल इस जन्म में बल्कि अगले जन्म में भी आपके साथ रहेगी। हो सकता है आपको योग्य गुरु मिल जाएं जो आपके जीवन को सार्थक बना दें परंतु जो भी हो आप साधारण मनुष्यों से अपने आपको अलग महसूस करेंगे ऐसी कोई दिव्य शक्ति आपके पास होगी जो विपरीत परिस्थितियों में आपकी रक्षा करेगी ।

दिव्य शक्ति से तात्पर्य देवी देवता से ही नहीं अपितु घर के पितर या प्रेत भी आप के रक्षक रह सकते हैं।

जन्मकुंडली का पहला घर

जन्मकुंडली का दूसरा घर

धन्यवाद


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *